Search This Blog

Monday, May 1, 2017

सात सवाल : अर्जुन कपूर



सात सवाल
अर्जुन कपूर
मोहित सूरी निर्देशित हाफ गर्लफ्रेंड में अर्जुन कपूर बिहारी युवक माधव झा का किरदार निभा रहे हैं। चेतन भगत के इसी नाम के अंग्रेजी उपन्‍यास पर आधारित इस फिल्‍म के लिए अर्जुन कपूर ने भाषा और आचार-व्‍यवहार पर मेहनत की। वे पटना भी गए। बिहारी मूल के व्‍यक्तियों के संपर्क में रहे। उन्‍होंने माधव झा को पर्दे पर उतारने की हर कोशिश की है।
-बिहार के बारे में आप कितना जानते हैं?
0 इस फिल्‍म के पहले ऊपरी तौर पर ही जानता था। मैं इस फिल्‍म के पहले भी एक बार पटना जा चुका हूं। उसे देखा और महसूस किया है। मनोज बाजपेयी के साथ तेवर के प्रचार के समय गया था। कह समता हूं कि मैं बिहार जा चुका हूं।
- हाफ गर्लफ्रेंड के माधव झा की तैयारी में और क्‍या समझ बढ़ी?
0 बिहार के बारे में शेष भारत क्‍या सोचता है और असलियत दोनों में फर्क है। अब लगता है कि मेरे बिहारी दोस्‍तों पर क्‍या बीतती होगी,जब कुछ सामान्‍य टिप्‍पणियां धारणा के आधार पर कर दी जाती हैं। वे बातें चुभती होंगी। माधव झा को भी झेलना पड़ता है फिल्‍म में।
-ऐसा क्‍यों होता है?
0 हम सभी का माइंडसेट बन जाता है। हम सोच लेते हैं कि अच्‍छा फलां स्‍टेट का है तो ऐसा ही होगा। फिल्‍म और किरदार के लिए मैं उन धारणाओं पर अमल नहीं करना चाहता था। हम ने बनावटी बिहारी नहीं रखा है किरदार को। फिलम देखने पर सभी मानेंगे कि हम ने बिहार का खयाल रखा है।
-बिहार के किसी व्‍यक्ति को आप जानते हैं करीब से?
0 मेरे लिए तो मनोज बाजपेयी हैं। वे बिहारी होने पर गर्व महसूस करते हैं। सोनाक्षी को जानता हूं,जो बिहारी बाबू की बेटी हैं। दोनों से मैं तेवर में ही मिला और करीब से देखा। प्रकाश झा हैं। उन्‍होंने तो बिहार को पर्दे पर पेश किया।
- क्‍या धारणा बनी है बिहार के बारे में?
0 मैंने देखा कि बिहारियों में राजनीतिक झुकाव के साथ अच्‍छी राजनीतिक समझ भी है। वे भारत को अच्‍छी तरह जानते हैं। भारत की असलियत को आप किसी बिहारी से समझ सकते हैं। वे विकासशील भारत के प्रतिनिधि हैं। वे सभी को आप कह कर संबोधित करते हैं। महिलाओं के प्रति उनका आदर अनुकरणीय है।
- क्‍या सचमुच बिहार पिछड़ा है?
0 मैं नहीं मानता। इतिहास और परंपरा में वह आगे रहा है। वहां के युवक सभी क्षेत्रों में अच्‍छा कर रहे हैं। उनमें आत्‍मविश्‍वास और एटीट्यूड है। वे बदलाव के लिए तैयार हैं। मुझे विश्‍वास है कि इस दशक में बिहार काफी आगे आ जाएग।
- क्‍या फिर से बिहार जाना चाहेंगे?
0 बिल्‍कुल...जाउुंगा और ज्‍यादा समय बिताऊंगा।

No comments: